आदत अच्छी तो सेहत अच्छी (रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी)

आदत अच्छी तो सेहत अच्छी

कारोनो संकट की दूसरी लहर ने सबकी चिंता बढ़ा दी है। जो लोग कोरोना के संक्रमण से बचे हुए हैं, वे भी इस फिक्र में डूबे हैं कि एहतियातन वे क्या ऐसा करें कि संक्रमित होने से तो बचे ही रहें, दूसरी बीमारियों से भी अपना बचाव कर पाएं। इस संबंध में कुछ बुनियादी बातें समझने की है। 

जहां तक सवाल कोरोना के संक्रमण का है तो यह एक तरह का फ्लू ही है, जिसके लक्षण आमतौर पर सर्दी-जुकाम जैसे दिखते हैं, जैसे कफ, गले में सूजन, सिरदर्द, तेज बुखार और सांस लेने में तकलीफ। तमाम फ्लू की तरह यह भी उन लोगों को ज्यादा प्रभावित करता है, जिससे रोग-प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्युनिटी कमजोर होती है। 

इसलिए सबसे जरूरी है कि हम अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाए रखें। आजकल रोग प्रतिरोधक क्षमता के बारे में खूब चर्चा हो रही है। दवा दुकानों पर इसके लिए कई तरह के पेव और चूर्ण बेचे जा रहे हैं। पहली बात तो यह कि ऐसा कोई जादुई फॉर्मूला नहीं है, जिससे रातों रात शरीर की प्रतिरोधक क्षमता सुधर जाए। हां, नियमित तौर पर कुछ कुदरती उपाय आजमाकर हम जरूर कुछ दिनों में अपनी रोग-प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी कर सकते हैं और इस तरह कोरोना संक्रमण ही नहीं, बल्कि इस प्रकार की कई अन्य बीमारियों से भी अपना बचाव कर सकते हैं।

नियमित जीवनशैली 

रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में नियमित जीवनशैली की विशेष भूमिका होती है। इसमें सबसे अहम है सुबह के वक्त जल्दी उठना। जल्दी उठने का मतलब है गर्मी के दिनों में सुबह 5 से 6 बजे के बीच और सर्दी के दिनों में 6 से 7 बजे के बीच बिस्तर छोड़ देना। लेकिन जल्दी उठने का मतलब यह भी नहीं है कि आपको आधी-अधूरी नींद लेनी है। रोजाना कम से कम 7 घंटे (और अधिकतम 8 घंटे) की नीद जरूरी है। कम नींद से शरीर में कॉर्टिसोल नामक हार्मोन के स्तर में बढ़ोतरी होती है। वह हार्मोन न केवल तनाव बढ़ता है, बल्कि शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को भी कमजोर करता है।

धूप और व्यायाम 

जल्दी उठने के साथ ही नियमित तौर पर पैदल चलना और कसरत वा योग करना भी जरूरी है। हल्के हाथों से शरीर की मालिश भी करेंगे तो और भी बेहतर रहेगा। सुबह की सैर, मालिश और कसरत/योग से शरीर में ऐसे एंजाइम और हार्मोन सावित होते हैं जो हमारी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर कोरोना जैसे फ्लू से भी बचाव करने में सहायक होते हैं।

साथ ही यह भी कोशिश करें कि सुबह की सैर और कसरत का समय ऐसा हो कि आपके शरीर को सुबह की 20 से 30 मिनट तक धूप भी मिल सके। कई शोध से इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि सुबह की धूप रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मददगार होती है।

सुबह का जलपान 

रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मेटाबॉलिज्म का महत्व होता है। हमारा मेटाबोलिज्म जितना अच्छा होगा, हमारी रोग-प्रतिरोधक क्षमता भी उतनी ही बेहतर होगा। मेटाबॉलिज्म बढ़ाने के लिए न केवल सुबह का नाश्ता जरूरी है, बल्कि चार-चार घंटे के अंतराल पर कुछ पौष्टिक खाना भी आवश्यक है। अपनी खुराक में रोजाना दही या छाछ (मठा) अथवा दूध-पनीर जैसी चीजों को भी अवश्य शामिल करें जिनके ‘गुड बैक्टीरिया’ आपको बीमार होने से बचाएंगे। 

खट्टे फल के फायदे 

लहसुन, अश्वगंधा और अदरक जैसी हर्ब्स में हमारी इम्यूनिटी को बढ़ाने की क्षमता होती है। इनमें से सभी या किसी एक का भी अगर नियमित रूप से सेवन करेंगे तो संक्रमण की आशंका काफी हद तक कम हो जाएगी।

रोज की खुराक में कुछ खट्टे फल भी जरूर शामिल करें। वे नींबू से लेकर संतरे, मौसमी तक कुछ भी हो सकते हैं। अगर ये न खा सके तो रोजाना कम से कम एक आंवला खाना भी पर्याप्त होगा। खट्टे फल विटामिन सी के अच्छे स्रोत होते हैं, जो फ्री रेडिकल्स के असर को कम कर रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं।

खूब पानी पिएं 

रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का यह सबसे आसान तरीका है कि खूब पानी पीजिए (किडनी के रोगी ऐसा न करें)। आप जितना ज्यादा पानी पिएंगे, शरीर के टॉक्सिन उतने ही बाहर निकलेंगे और आप संक्रमण से मुक्त रहेंगे। अगर आप रोजाना दिन में एक या दो बार शहद या तुलसी का पानी पीने की आदत डाल देते हैं तो और भी बेहतर रहेगा। ग्रीन टी भी पी सकते हैं।(यह लेख सिर्फ सामान्य जानकारी और जागरूकता के लिए है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: